भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए- पूरी जानकारी व रहस्य

भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए- पूरी जानकारी व रहस्य 🤔

हिंदू धर्म में भगवान की पूजा करने का अलग अलग तरीका लोग अपनाया करते हैं। कुछ लोग मंदिरों में जाकर के भगवान की पूजा करते हैं वहीं जब किसी के पास समय नहीं होता है तो लोग घर पर ही भगवान की पूजा करते हैं और घर पर ही भगवान की मूर्ति स्थापित करके या फिर घर में भगवान का छोटा सा मंदिर बना कर भगवान की मूर्ति रख के, भगवान की फोटो रख कर पूजा करने लगते हैं। 

ऐंसी स्थिति में एक बात विशेष ध्यान रखते हो जाती है कि भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए अक्सर लोगों को पता नहीं होता है कि भगवान का मुख किस दिशा की ओर होना चाहिए जोकि बहुत आवश्यक है अन्यथा यदि भगवान का मुख किसी विपरीत दिशा में है तो हमें उसके नकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिल सकते हैं।


इसे भी दबाएँ-  आदित्य हृदय स्तोत्र PDF (Aditya Hridaya Stotra PDF💚


तो आइए आज के इस लेख में हम भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए- यह जानेंगे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस SanskritExam. Com वेबसाइट पर विभिन्न वास्तु, हिंदू धर्म, व्रत कथाएं, स्तोत्र पीडीएफ बुक्स आदि का बहुत बड़ा भंडार उपलब्ध है। इसका लाभ लेने के लिए आप इस वेबसाइट के मुख्य पेज अथवा मेनूबार में पर अवश्य जाएं तो यह शुरू करते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए 


इसे भी दबाएँ-  रामायण के रचयिता कौन थे? सच्चाई जान लो 💚

इसे भी दबाएँ-  हनुमान चालीसा के समझ लो रहस्य, हनुमान चालीसा परिचय, पुस्तक PDF 💚


भगवान का मुख और वास्तु शास्त्र

वास्तु शास्त्र में किस वस्तु को कहां स्थापित करें, कौन सी वस्तु को कहां पर रखना चाहिए- इन सभी बातों की विस्तृत चर्चा की गई है। वास्तु शास्त्र के अनुसार जो व्यक्ति अपने सभी कार्यों को संपन्न करता है उसके सभी कार्य निसंदेह सफल एवं फलीभूत होते हैं। 

वास्तु शास्त्र में भगवान की मूर्ति की स्थापना को लेकर के बहुत सारी बातें बताई गई हैं। भगवान की फोटो कहां रखनी चाहिए, भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए- इन सभी बातों की चर्चा वास्तु शास्त्र में मिलती है। वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि भगवान का मुख्य कभी भी दक्षिण दिशा में नहीं होना चाहिए।

इसे भी दबाएँ-  कलयुग में किस भगवान की पूजा करनी चाहिए 💚

इसे भी दबाएँ-  औरतों को शनि देव की पूजा करनी चाहिए या नहीं 💚


भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए

यदि आप भी अपने घर पर भगवान की फोटो या भगवान की मूर्ति अथवा भगवान का कोई ऐसा विग्रह रखते हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखें कि भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए। वास्तु शास्त्र की मानें तो भगवान का मुंह हमेशा पूर्व दिशा या उत्तर दिशा की ओर होना अभीष्ट है। 

यह एक सामान्य बात है। ध्यान रहे यह नियम सर्वत्र लागू नहीं होता वास्तु शास्त्र के अनुसार भगवान का मुख किस दिशा में होना चाहिए या कहां होना चाहिए यह आप कुछ बिंदुओं के रूप में देख सकते हैं

  • भगवान का मुख पूर्व या उत्तर दिशा में होना चाहिए।

  • भगवान का मुख नदी की तरफ हो सकता है।

  • भगवान की फोटो शुद्ध जगह में रखनी चाहिए।


इसे भी दबाएँ-  वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का नक्शा कैंसे हो (PDF) 💚

इसे भी दबाएँ-  सुकन्या समृद्धि योजना के 6 बडे नुकसानF) 💚


भगवान का मुख किस दिशा में नहीं होना चाहिए

जिस प्रकार से वास्तु शास्त्र में भगवान के मुख की दिशा के विषय में बताया गया है ठीक उसी प्रकार से वास्तु शास्त्र अथवा हिंदू धर्म ग्रंथों में भगवान का मुख कहां नहीं होना चाहिए - इसके बारे में भी काफी बातें मिलती हैं जिनको कि आप नीचे बिंदुओं के माध्यम से समझ सकते हैं-

  • भगवान का मुख पैरों की तरफ नहीं होना चाहिए

  • भगवान का मुख शौचालय की तरफ नहीं होना

  • भगवान का मुख अंधकार की ओर नहीं होना चाहिए

  • भगवान का मुख हमारे पीठ की तरफ नहीं होना चाहिए


इसे भी दबाएँ-  सृष्टि की रचना कैंसे हुई- पढें पुरुष सूक्त PDF💚

इसे भी दबाएँ-  कामसूत्र पुस्तक PDF (Kamasutra Book PDF💚

इसे भी दबाएँ- Hindi To Sanskrit Translation( (हिंदी से संस्कृत अनुवाद सीखें) 💚




Post a Comment

0 Comments