बगलामुखी मंत्र के नुकसान - भूल से भी न करें ये काम | बगलामुखी मंत्र प्रयोग- लाभ व नुकसान

बगलामुखी मंत्र के नुकसान - भूल से भी न करें ये काम | बगलामुखी मंत्र प्रयोग- लाभ व नुकसान

प्यारे भक्तों, आप सभी का आपकी अपनी इस SanskritExam. Com वेबसाइट में हार्दिक स्वागत है। आज हम एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय की बात करने जा रहे हैं। 

बगलामुखी मंत्र प्रयोग व इसकी आवश्यकता, बगलामुखी मंत्र के नुकसान, बगलामुखी मंत्र जप के लाभ- बगलामुखी से जुड़ी इत्यादि विभिन्न प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी साझा कर रहे हैं। 


यदि आप इस लेख को पढ रहें हैं तो अवश्य ही आप भी बगलामुखी की उपासना करना चाहते होंगे या बगलामुखी के बारें में जानना चाहते होंगे। अतः बगलामुखी का मंत्र प्रयोग करने से पहले बगलामुखी मंत्र की गुप्त बातें व बगलामुखी मंत्र के फायदे, नुकसान सब कुछ जान लीजिए। 

यह मंत्र बहुत ही विशेष एवं तांत्रिक प्रभावी मंत्र है। आइये, जानते हैं बगलामुखी मंत्र प्रयोग के बारें में व बगलामुखी पूजा विधि, बगलामुखी साधना के लाभ, नुकसान आदि सब कुछ।


बगलामुखी मंत्र प्रयोग- क्या है?

भारतीय सनातन धर्म ज्ञान- विज्ञान, तंत्र-मंत्र, भक्ति-शक्ति आदि से भरपूर है। सनातन धर्म अथवा हिंदू धर्मग्रंथों में दश महाविद्याओं का उल्लेख पाया जाता है। ये दश महाविद्या नाम से ही स्पष्ट होती हैं कि ये किसी विशेष उद्देश्य हेतु अवतरित हुई हैं। 


वैंसे तो ये दशों महाविद्या आदिशक्ति महाकाली दुर्गा का ही रूप हैं किन्तु इन दशों का महाविद्याओं के कार्य बहुत ही विशेष प्रकार के हैं। इन दश महाविद्या में एक बगलामुखी भी है। बगलामुखी महाविद्या बहुत ही अद्भुत व तांत्रिक रूप वाली महाविद्या है। 


वैंसे ये सभी दश महाविद्या तांत्रिक रूप से अधिक प्रचलन में हैं। अपने शत्रु को खत्म करने के लिए, शत्रु की वाक्शक्ति बंद करने के लिए, शत्रु का मारण करने के लिए बगलामुखी मंत्र प्रयोग किया जाता है जो कि वास्तव में बहुत शीघ्र ही अपना सीधा असर छोड़ता है। 



माँ बगलामुखी की पूजा कैसे करे?

एक ओर बगलामुखी बहुत भयानक सी प्रतीत होती है। वहीं दूसरी ओर सच्चे धर्मपरायण भक्तों के लिए वह ममतामयी माँ का रूप धारण कर लेती है। जय हो माँ बगलामुखी की। कमेंट में नीचे बगलामुखी अवश्य लिखें। 


माँ बगलामुखी की पूजा करने का विधान बहुत ही कठिन सा है। यदि बगलामुखी साधना में कोई गलती सी हो गयी तो इससे नुकसान भी हो सकता है। बगलामुखी साधना जब भी करें, बिना गुरु के बिल्कुल न करें। 


यदि आप ब्राह्मण ब्रह्मदीक्षा से दीक्षित हैं तो भी किसी गुरु से बगलामुखी का मंत्र श्रुतिगोचर अवश्य करें। यदि आप अपने घर में किसी भी रोग दोष, ताप सन्ताप, शत्रु बाधा आदि के लिए विशेष अनुष्ठान करवाना चाहते हैं अथवा चण्डी, दुर्गा, नवरात्रि आदि सात्विक पाठ पूजन करवाना चाहते हैं तो हमें व्हाटसप कर सकते हैं। 

बगलामुखी की पूजा की बात करें तो सामान्य रूप से बगलामुखी पूजा के कुछ विशेष नियम‌ यहाँ बताए गये हैं।

  • स्नानादि से निवृत्त हों।
  • तन व मन दोनों पवित्र हों।
  • पीले आसन पर बैठें।
  • पीले कपड़े पहनें।
  • पीली खिचड़ी का भोजन करें।
  • बगलामुखी को पीले फूल चढायें।



बगलामुखी साधना के लाभ, बगलामुखी मंत्र जप के लाभ

जो भी भक्त सच्चे मन से, धर्मपरायण होकर माँ बगलामुखी की साधना अथवा बगलामुखी मंत्र जप आदि करता है। उसकी सभी प्रकार की इच्छाएँ शीघ्र पूर्ण होती हैं। बगलामुखी मंत्र अथवा बगलामुखी साधना बहुत ही प्रभावी है। 


दश महाविद्याओं में से एक यह बगलामुखी शत्रु नाश के लिए प्रयोग की जाती है। बगलामुखी साधना के लाभ अथवा बगलामुखी मंत्र जप के लाभ बहुत ही चमत्कारिक हैं। कुछ विशेष लाभ नीचे बताए गये हैं।

  • शत्रु का शीघ्र नाश होता है।
  • दुश्मनी खत्म होती है।
  • शत्रुभय समाप्त होता है।
  • झूठे आरोप समाप्त होते हैं।
  • सभी प्रकार की इच्छाएँ पूर्ण होती हैं।


उपरोक्त दिए गये बगलामुखी मंत्र जप अथवा बगलामुखी साधना के विशेष शीघ्र होने वाले लाभ हैं। ध्यान देने वाली बात यह है कि यदि बगलामुखी साधना में किसी भी प्रकार का गलत उद्देश्य छिपा हो, 


बिना बात का कोई किसी का बुरा करना चाहता हो तो ऐंसी स्थिति में यह मंत्र स्वयं के लिए भी नुकसान करने वाला हो सकता है। अतः धर्मपरायण होकर ही माँ बगलामुखी की साधना करें अथवा करवाएं। आइये, जानते हैं- बगलामुखी मंत्र के नुकसान क्या हैं?


बगलामुखी मंत्र के नुकसान

बगलामुखी साधना के कुछ विशेष नियम हैं। जैंसे कि इस साधना में- भोजन से लेकर पहनावे तक सब कुछ पीला ही होना चाहिए। किसी भी प्रकार का गलत उद्देश्य नहीं होना चाहिए। ऐंसी दशा में बगलामुखी मंत्र के नुकसान भी हो सकते हैं। जैंसे कि

  • स्वयं के लिए हानिकारक
  • स्वयं पर इसका दुष्प्रभाव
  • विपत्ति आने की संभावना
  • मंत्रों का निष्फल हो जाना
  • साधना निष्फल हो जाना


इस प्रकार उपरोक्त दिए गये कुछ बगलामुखी मंत्र के नुकसान हो सकते हैं। यह तभी हो सकता है जब बगलामुखी की साधना विधि विधान से न की जाए। 


अतः बगलामुखी साधना करने के लिए किसी समर्थ गुरु से आज्ञा लेकर ही यह साधना शुरु करें। यदि सच्चे मन से, पवित्र हृदय से माँ बगलामुखी की साधना की जाए तो इससे श्रेष्ठ साधना व बगलामुखी मंत्र से चमत्कारिक मंत्र कोई दूसरा नहीं है। 



Click - सनातन धर्म व मंत्रों से जुड़े रहस्य जानें।

Click- सम्पूर्ण पूजन, हवन, मंत्र, तंत्र, वास्तु आदि सीखें

Click- ज्योतिष सीखें- कुण्डली, कालसर्प दोष, राशिफल आदि



बगलामुखी जाप करने से क्या होता है?

बगलामुखी मंत्र जाप करने से अथवा बगलामुखी साधना से समस्त प्रकार के रोग, दोष, शोक, ताप, पाप, भूतबाधा, प्रेतबाधा, शत्रुबाधा आदि सभी प्रकार की बाधाएं दूर हो जाती है। 

वास्तव में बगलामुखी मंत्र या बगलामुखी साधना सभी साधनाओं में से एक विशेष शीघ्र फल देने वाली एवं चमत्कार दिखाने वाली अद्वितीय साधना है। अपने भक्तों के लिए माँ बगला बहुत ही करुणामय हो जाती है। 


बगलामुखी की उत्पत्ति कैसे हुई?

एक समय की बात है। प्रजापिता ब्रह्मा जी के हाथों से उनका अद्वितीय ज्ञान ग्रंथ, कोई राक्षस छीनकर पाताल लोक चला गया। उस राक्षस को वरदान था। अतः इसे मार पाना ब्रह्मा, विष्णु, महेश आदि किसी के वश में नहीं था। 

उसी राक्षस को मारने के लिए सभी देवों ने आदिशक्ति माँ काली के बगला रूप को प्रकट किया। माना जाता है तभी से लोक में बगलामुखी नाम विख्यात हुआ व दश महाविद्याओं में अति विशेष माना गया।


नवरात्रि में बगलामुखी साधना कैसे करे?

बगलामुखी की साधना विशेष मुहूर्त अथवा विशेष तिथि या विशेष काल में ही करनी चाहिए। इससे यह साधना शीघ्र ही अपने चमत्कार दिखाने लगती है। अभी चैत्र का महीने की नवरात्रि आ रही है। 

चैत्र नवरात्रि अथवा किसी भी गुप्त नवरात्रि में बगलामुखी की साधना करना बहुत ही प्रभावी होता है। नवरात्रि में माँ चण्डी चामुण्डा दुर्गा देवी की पूजा कर बगलामुखी की साधना करने का विशेष फल बताया गया है। 


इन्हें भी देखें 👇👇



Post a Comment

1 Comments

  1. जय हो मां बगलामुखी की।🙏🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼

    ReplyDelete

आपको यह लेख (पोस्ट) कैंसा लगा? हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बताएँ। SanskritExam. Com वेबसाइट आपके कमेंट को दिल ❤ से प्यार करेगी।